Subscribe to South Asia Citizens Wire | feeds from sacw.net | @sacw
Home > Communalism Repository > राष्ट्रा वाद का बढ़ता वज़न . . . ख़तरे में है जिनकी आज़ादी (Rashtra Vaad Ka Badhta (...)

राष्ट्रा वाद का बढ़ता वज़न . . . ख़तरे में है जिनकी आज़ादी (Rashtra Vaad Ka Badhta Vazan . . . Khatre Mein Hai Jinki Azaadi)

[The rising weight of nationalism . . . rising number of those who see their independence under threat]

by Harsh Kapoor, 31 October 2014

#socialtags
Version imprimable de cet article Version imprimable
articles du meme auteur other articles by the author

[text in Roman and in Devanagri]

Raashtra Vaad Ka Badhta Vazan . . . Khatre Mein Hai Jinki Aazaadi
Padi Hai Jinpay Aaj Rashtra Ekta Ki Chapat, Badh Rahi Hai Unki Abaadi

Jan GUN, Man,
Bahut Badi Hai GUN, Jan Kay Man mein GUN . . .
Tan Mein Bas Gayee GUN
Abb to Atom Bum Rashtra Dhan, Jan Dhan
Logon Ko Laga Do Chabhi . . . Kaho Khatre Mein Hai Inki Aazaadi
No to Barbaadi, Sex only after Swachh Shaadi
Deewanagiri Outside Marriage, Banega Uska Porridge
Jisnay Khaya Ho Mutton, Uski Pakad Lo Patang
Bas List Banaa Lo Unki, Jo Peeta Ho Chillum, Ya Pehen Baithy Ho Jeans Bay Sharam
Jiski Ho Independent Rhythm, Khatam Uska Karyakrum
Socialism Ki Baat Khatum, Uski Bajaye Chalega Lakkad Hazam - Pathar Hazam Superstition
Jo Udaayay Ga Shohrat or Sanskriti Ka FUN (yani Mazaak), Uski Life Hogi Hung
Jo List Mein Na Hon, Unko Milaygay Ek Plate Chum Chum
Kar Lo Ab Tayaaree, Time Up For Gaddari and Bloody Mary
Rahstra or Mazhab Kay Naam Hogi Maara Mari
Har Konay Me Hogi Mata ki Chauki aur Tata ki Chauki
Toknay Walon Ki Banegy Lauki
AA Rahi Hai Bullet Train Trilok Puri to Parlok Puri
Aye Vatan, Tumharay Liye Ready Hai Yeh Button
Aye Mere Chaman Kay Logon, Pehen Lo Kafan,
Rahnuma Lumpen Daba Dengay Button, Ho Jaingay Sab Dushman Khatam
Mere Sanam, Sab Ho Jayengay Bhasam,

Day Tay Jayengay Salay Sab Rashtravad Ka Hawala,
Sab Ko Kha Jayega Yeh Religion aur Nationalism Ka Masala.

राष्ट्रा वाद का बढ़ता वज़न . . . ख़तरे में है जिनकी आज़ादी
पड़ी है जिनपे राष्ट्रा एकता की छपत, बढ़ रही है उनकी आबादी

जन, GUN, मन,
बहुत बड़ी है GUN, जन के मन में GUN . . .
तन में बस गयी GUN
अब तो आटम बम राष्ट्र धन, जन धन
लोगों को लगा दो चाभी . . . कहो खतरे में है इनकी आज़ादी
No to बर्बादी, सेक्स only आफ्टर स्वच्छ शादी
दीवानागिरी Outside मॅरेज, बनेगा उसका Porridge
जिसने खाया हो Mutton, उसकी पकड़ लो पतंग
बस लिस्ट बना लो उनकी, जो पीता हो चिलम, या पहने बैठी हो जीन्स बे शरम
जिसकी हो Independent Rhythm, ख़तम उसका कर्यक्रुम
Socialism की बात ख़ातुम, उसकी बजाए चलेगा लक्कड़ हाज़ाम - पठार हाज़ाम सूपरस्टिशन
जो उड़ाये गा शोहरत ओर संस्कृति का Fun (मज़ाक), उसकी लाइफ होगी Hung
जो लिस्ट में ना हों, उनको मिले गा एक प्लेट चम चम
कर लो अब तयारी, टाइम उप फॉर गद्दारी and Bloody Mary
राष्ट्र ओर मज़हब के नाम होगी मारा मारी
हर कोने मे होगी माता की चौकी और टाटा की चौकी
टोकने वालों की बनेगी लौकी
आ रही है बुलेट ट्रेन त्रिलोक पूरी to परलोक पूरी
आए वतन, तुम्हारे लिए रेडी है यह बटन
आए मेरे चमन के लोगों, पहें लो कफ़न,
रहनुमा Lumpen दबा देंगे बटन, हो जायेंगे सब दुश्मन ख़तम
मेरे सनम, सब हो जाएँगे भसम,

दे ते जाएँगे साले सब राष्ट्रवाद का हवाला,
सब को खा जाएगा यह रिलिजन और नॅश्नलिज़म (religion और nationalism) का मसाला.

31st October 2014

by हर्ष कपूर / Harsh Kapoor
(बदनाम नास्तिक) / (an un-patriotic, internationalist, atheist rat)

SEE ALSO poster: